सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अनमोल वचन,अनमोल सूत्र,अनमोल कहानियाँ,अनमोल दोहे,अनमोल शलोक

सब से पहले हमे यह जानना है कि अनमोल वचन,अनमोल सूत्र,अनमोल कहानियाँ,अनमोल दोहे,अनमोल श्लोकों का हमारे जीवन में क्या-क्या महत्त्व है,इन को क्यों पढ़ा जाए, इन को क्यों सुना जाये, इन को क्यों देखा जाए तो आइए ! कुछ चर्चा, कुछ विश्लेषण करते हैं हमारे जीवन में कितने उतार-चड़ाव आते है, कितने ही सुख-दुःख आते हैं, कितनी ही चिंताएँ-गम आते हैं, कितनी लाभ-हानि होती है, कभी-कभी इतने मुसीबतों से घिर जाते है कि कुछ भी नहीं सूझता कि क्या करें ? तो हमें उन महान पुरुषों का ध्यान आता है,जिन्होंने अपने जीवन में उन मुशिकलों का सामना कितनी बार किया । पहाड़ जैसी लगने वाली कठिनाईयों का डट कर मुकाबला किया । आपको उन महां-पुरुषों के जहां अनमोल वचन पढ़ने को मिलेंगे वहीं पर उनके जीवन की कुछ-क़ुछ झलकियाँ भी  देखने को मिलेंगी ।  आइये पहले अनमोल वचन देखते हैं,पढ़ते हैं, और उन अनमोल वचनों का अनुसरण करते हैं :---------------------- । 

शिक्षादायक अनमोल वचन
-------------------------
चिराग खुद नहीं जलते जलाये जाते हैं । 
जिंदगी खुद नहीं बनती बनाई जाती है ।
मुबारिक हैं वह लोग जो अपनी नेक तदबीर उस वक़्त भी जारी रखते हैं जब जमाना उन का मजाक उड़ा रहा होता है । बड़ों की सोबत में बैठने से अदब व अक्ल आती है ।  
सबसे बड़ा बहादुर बदला न लेने वाला है । 
सबसे अच्छी खैरात माफ़ कर देना है । 
सबसे अच्छा नशा खिदमते खलक है । 
मर्द की खूबसूरती उसकी सफाहत से है । 
तनावों से दरजा बुलन्द होता है । 
खैरात से माल में कमी नहीं आती । 
तदबीर जैसी कोई दानाई नहीं । 
दौलत से जेवर खरीद सकते हैं हुस्न नहीं ।
दौलत से खुशामद खरीदी जा सकती है मुहब्बत नहीं । 
दौलत से गद्दे खरीद सकते हैं नींद नहीं । 
दौलत से लड़का-लड़की खरीद सकते हैं बेटा-बेटी नहीं । 
दौलत से किताबें खरीद सकते हैं इल्म नहीं । 
दौलत से दवाई खरीद सकते है सेहत नहीं ।
दौलत से कोई वस्तु खरीद सकते हैं वक़्त नहीं । 
दौलत से जिस्मानी राहत खरीद सकते हैं रूहानी मुसर्रत नहीं । 
दौलत से ऐनक खरीद सकते हैं आँख नहीं । 
दौलत से नारी खरीद सकते हैं पत्त्नी नहीं ।
दौलत से बेईमान खरीद सकते हैं ईमानदार नहीं । 
दौलत से पानी खरीद सकते हैं प्यास नहीं ।  
दौलत से भोजन खरीद सकते हैं भूख नहीं । 
दौलत से ज़मीन खरीद सकते हैं आसमान नहीं ।
दौलत इज्जत के मुकाबले हेच है । 
शौकत हिम्मत के मुकाबले हेच है । 
सल्तनत इबादत के मुकाबले हेच है ।
सूरत सीरत के मुकाबले हेच है । 
शुजावत सखावत के मुकाबले हेच है ।    


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शिक्षण क्या है |

इंग्लिश में शिक्षण को टीचिंग कहते है । जब एक गुरु अपने विद्यार्थी को ज्ञान देता है तो इसे ही शिक्षण कहा जाता है । प्राचीन कल से ही ऋषि मुनि शिक्षण का कार्य कर रहे है ।

१. सबसे पहले वे विद्यार्थों को अपना चरित्र सुधरने की शिक्षा देते है तथा कहते है हे प्रिये विद्यार्थों कभी भी अपना चरित्र मत खत्म करो । एक बार धन खत्म हो जाये तो फिर आ जाये गा , एक भार स्वास्थ्य चला जाये तो फिर आ जाये गा पर चरित्र  का विनाश हो  जाने से तो दुर्गति हि दुर्गति होती है । इस को सभालने के लिए रूप , शब्द, गंध , स्पर्श आदि मथुनों से रोका जाता है ।

२. चरित्र की शिक्षा  देने के बाद गुरु विद्यार्थी को अक्षर ज्ञान देता है । उसे संस्कृत , हिंदी , गणित , इतिहास , भूगोल तथा विज्ञानं की शिक्षा दी जाती है

३. उपरोक्त शिक्षा देने के लिए कक्षा एक से दस होती है । दस वर्ष तक गुरु शिष्य को अपने पास रखता है । गुरु उसके हरेक कार्य पर नजर रखता है ।

शिक्षण से अद्यापक विद्यार्थी की आंखे खोल देता है । अगर मेरे अद्यापक ने मुझे हिंदी न सिखाई होती तो मै आज  शिक्षण क्या है न लिख सकता । इस लिए शिक्षण के पेशे को सबसे अच्छा माना गया है क…

लेखांकन के उदेश्य क्या है (Objectives of Accounting in Hindi)

लेखाकंन के बहुत सारे उदेश्य है जीने हम नमन शब्दों में लिख सकते है ।  इन उदेश्यों को जानकारी प्राप्त कर लेने से आप इस क्षेत्र में आगे जा सकते हो |

लागत लेखांकन नोट्स

लागत लेखांकन नोट्स में आपका स्वागत है| यह नोट्स  निन्म लिंक्स में दिए गए है | इनको एक एक करके आप देखे | मुझे आशा है कि इन  के माद्यम से आप लागत लेखांकन को जान लेंगे | कृपया अपने ब्राउज़र बटन का उपयोग करने के लिए वापस जाना है और इस विषय से संबंधित सभी व्याख्यान देखने के लिए आगे जाने के आगे का ब्राउज़र बटन का उपयोग करे ।