सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जोखिम मूल्याकंन के माध्यम से बैलेंस शीट को मजबूत बनाना

हाँ, हम जोखिम  मूल्याकंन  के माध्यम से बैलेंस शीट को मजबूत कर सकते हैं. जोखिम  मूल्याकंन प्रसिद्ध वित्त शब्दावली है जो अग्रिम जोखिम प्रबंधन के लिए प्रयोग किया जाता है. कमजोर बैलेंस शीट सिर्फ एक कंपनी के लिए बड़ा जोखिम संकेत है. यदि बैलेंस शीट कमजोर होगा, कंपनी के लाभ नहीं पैदा करते हैं और फिर कंपनी की पूंजी कम हो जाएगा कर सकते हैं. हम लॉयड्स बैंकिंग समूह की कमजोर बैलेंस शीट का उदाहरण ले सकते हैं.


खबर की जानकारी के अनुसार, "लन्दन कम्पनी की सांविधिक पूर्व कर नुकसान £ 3.542 मीटर में आया था, £ 281m पिछले वर्ष के लाभ के साथ तुलना में एक पाउंड पीपीआई संपर्क और लागत निवारण के लिए 3.2bn गैर आवर्ती प्रावधान भी शामिल है."

अब, लन्दन कम्पनी को अपनी कमाई में सुधार लाने से पहले अपनी बैलेंस शीट को मजबूत बनाने का फैसला किया है. इसके लिए यह बड़ा उपकरण का उपयोग कर रहा है और उसके नाम जोखिम भूख है.

कैसे जोखिम  मूल्याकंन  के माध्यम से बैलेंस शीट को मजबूत बनाना

आज, हम तुम कदम के बारे में बताने के लिए जोखिम  मूल्याकंन के माध्यम से बैलेंस शीट को मजबूत बनाने जाएगा.

1. निवेश का सुरक्षित विकल्प

बैंकिंग क्षेत्र में पैसा निवेश का एक बड़ा जोखिम हो सकता है क्योंकि यह आसान है के लिए बैंक की चूककर्ता ग्राहक बन सकता है. तो, अगर कंपनी के जोखिम मूल्याकंन उपयोग करने के लिए शुरू कर देंगे, यह अपने पैसे का निवेश का सबसे अच्छा और सुरक्षित विकल्प मिल जाएगा.

2. संभावित विकल्प का विश्लेषण

पैसा निवेश करने से पहले, कंपनी भी लंबे समय के लिए कमाई की संभावनाओं का विश्लेषण करेगा. यदि अच्छी क्षमता है, कंपनी इसे पसंद करेंगे.

3. अभिनव

कंपनी अपने दृष्टिकोण बदल जाएगा. एक भूखे आदमी की तरह, यह नए नवाचार के पीछे चलेंगे. इस नए नवाचार बेहतर पूंजी निर्माण का मिश्रण करने के लिए संबंधित हो सकता है, अलग संपत्ति या निवेश या दीर्घकालिक वित्तीय नियोजन के समय चुनने के लिए संबंधित किया जा सकता है.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शिक्षण क्या है |

इंग्लिश में शिक्षण को टीचिंग कहते है । जब एक गुरु अपने विद्यार्थी को ज्ञान देता है तो इसे ही शिक्षण कहा जाता है । प्राचीन कल से ही ऋषि मुनि शिक्षण का कार्य कर रहे है ।

१. सबसे पहले वे विद्यार्थों को अपना चरित्र सुधरने की शिक्षा देते है तथा कहते है हे प्रिये विद्यार्थों कभी भी अपना चरित्र मत खत्म करो । एक बार धन खत्म हो जाये तो फिर आ जाये गा , एक भार स्वास्थ्य चला जाये तो फिर आ जाये गा पर चरित्र  का विनाश हो  जाने से तो दुर्गति हि दुर्गति होती है । इस को सभालने के लिए रूप , शब्द, गंध , स्पर्श आदि मथुनों से रोका जाता है ।

२. चरित्र की शिक्षा  देने के बाद गुरु विद्यार्थी को अक्षर ज्ञान देता है । उसे संस्कृत , हिंदी , गणित , इतिहास , भूगोल तथा विज्ञानं की शिक्षा दी जाती है

३. उपरोक्त शिक्षा देने के लिए कक्षा एक से दस होती है । दस वर्ष तक गुरु शिष्य को अपने पास रखता है । गुरु उसके हरेक कार्य पर नजर रखता है ।

शिक्षण से अद्यापक विद्यार्थी की आंखे खोल देता है । अगर मेरे अद्यापक ने मुझे हिंदी न सिखाई होती तो मै आज  शिक्षण क्या है न लिख सकता । इस लिए शिक्षण के पेशे को सबसे अच्छा माना गया है क…

लेखांकन के उदेश्य क्या है (Objectives of Accounting in Hindi)

लेखाकंन के बहुत सारे उदेश्य है जीने हम नमन शब्दों में लिख सकते है ।  इन उदेश्यों को जानकारी प्राप्त कर लेने से आप इस क्षेत्र में आगे जा सकते हो |

बी. काम की शिक्षा के लिए नोट्स

प्यारे बी. काम के विद्यार्थयों, 

हम आप को निशुल्क बी. काम की शिक्षा नोट्स के माद्यम से देना चाहते है |  हमने आप के लिए पिछले पांच वर्षों में इस शिक्षा को आसान करने के लिए पर्यास किया है | उमीद है के निम्न दिए गए नोट्स को आप पडेगें | धन्यवाद