सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

निर्णय के लिए प्रासंगिक लागत

निर्णय लेने के लिए प्रासंगिक लागत वह होती है  जिसे हम  लागत का भुगतान करने के लिए पहली वरीयता देते हैं ।  यह  लागत लेखांकन की अद्भुत उपकरण में से एक है। इस का मतलब है कि  हम सबसे ज्यादा लाभ प्राप्त करने के लिए केवल न्यूनतम कीमत चुकानी चाहिए ।  इसका मतलब  यह भी है हमे  सब अप्रासंगिक या गैर प्रासंगिक लागत छोड़ देनी चाहिए ।


उदाहरण के लिए, यदि आप अपने रुपये से  रिक्त रजिस्टर खरीद रहे हैं। मान लीजिये आप अ व्यापारी  से २० वाली सेल वाला रजिस्टर १४ रुपये का खरीदते हो ।  बाद में आप को पता लगता है कि  ऐसी तरह का तो सी व्यापारी १२ रूपये लगत पर दे रहा है । तो आप को १२ रूपये वाला रजिस्टर ही खरीदना चाहिए । मुझे लगता है कि  आप इस को समझ गए होंगे ।




वीडियो ट्यूटोरियल





संबंधित संसाधन

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बी. काम की शिक्षा के लिए नोट्स

प्यारे बी. काम के विद्यार्थयों, 

हम आप को निशुल्क बी. काम की शिक्षा नोट्स के माद्यम से देना चाहते है |  हमने आप के लिए पिछले पांच वर्षों में इस शिक्षा को आसान करने के लिए पर्यास किया है | उमीद है के निम्न दिए गए नोट्स को आप पडेगें | धन्यवाद 

लागत लेखांकन नोट्स

लागत लेखांकन नोट्स में आपका स्वागत है| यह नोट्स  निन्म लिंक्स में दिए गए है | इनको एक एक करके आप देखे | मुझे आशा है कि इन  के माद्यम से आप लागत लेखांकन को जान लेंगे | कृपया अपने ब्राउज़र बटन का उपयोग करने के लिए वापस जाना है और इस विषय से संबंधित सभी व्याख्यान देखने के लिए आगे जाने के आगे का ब्राउज़र बटन का उपयोग करे ।

लेखांकन के उदेश्य क्या है (Objectives of Accounting in Hindi)

लेखाकंन के बहुत सारे उदेश्य है जीने हम नमन शब्दों में लिख सकते है ।  इन उदेश्यों को जानकारी प्राप्त कर लेने से आप इस क्षेत्र में आगे जा सकते हो |