सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

लेखांकण में सचाई व झुठ

लेखांकण में सचाई व झुठ में मामुली सा फरक होता है पर लेखांकण में सचाई तो पानी की तरह शुद होती है और यही एक अचछा अकांउटैंट पैदा कर सकती है । लेखांकण में झुठ को चलाना मानो अपने

accounting profession को धोखा देना है

तथा इस धोखे से आप अपना लाभ उठा लेते हो पर कभी यह आप ने सोचा कि इस से देश को तथा जहां आप काम करते है उस संसथान को इस से कितनी हानि होती है ।

तथा यह सारी हानी हमें ही दबारा झेलनी पडती है जिस से देश का विकास रुक जाता है ।

अगर आप देश के हित में हो तो कभी भी ऐसा काम न करो जिससे तमें पछताना पढे ।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बी. काम की शिक्षा के लिए नोट्स

प्यारे बी. काम के विद्यार्थयों, 

हम आप को निशुल्क बी. काम की शिक्षा नोट्स के माद्यम से देना चाहते है |  हमने आप के लिए पिछले पांच वर्षों में इस शिक्षा को आसान करने के लिए पर्यास किया है | उमीद है के निम्न दिए गए नोट्स को आप पडेगें | धन्यवाद 

लेखांकन के उदेश्य क्या है (Objectives of Accounting in Hindi)

लेखाकंन के बहुत सारे उदेश्य है जीने हम नमन शब्दों में लिख सकते है ।  इन उदेश्यों को जानकारी प्राप्त कर लेने से आप इस क्षेत्र में आगे जा सकते हो |

लागत लेखांकन नोट्स

लागत लेखांकन नोट्स में आपका स्वागत है| यह नोट्स  निन्म लिंक्स में दिए गए है | इनको एक एक करके आप देखे | मुझे आशा है कि इन  के माद्यम से आप लागत लेखांकन को जान लेंगे | कृपया अपने ब्राउज़र बटन का उपयोग करने के लिए वापस जाना है और इस विषय से संबंधित सभी व्याख्यान देखने के लिए आगे जाने के आगे का ब्राउज़र बटन का उपयोग करे ।