सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

नोजवान का भारतिय अरथ विवसथा में योगदान


एक भारतिय नोजवान होने के नाते मैंने कई बार सोचा कयों न नोजवान के भारतीय अरथ विवसथा में योगदान को लिखा जाए ।

भारत की अरथ विवसथा एक मिशरित अरथ विवसथा है । जिस में सरकारी तथा गैर सरकारी ततव इस में अपना योग दान देते है । पर फिर भी यदि धयान से सोचा जाए कि आखर यह भी तो नोजवान ही है कयोंकि 60 वरष में तो सभी रिटायर हो जाते है इस का अरथ यह हुआ कि नोजबान ही देश के आरथीक विकास का डांचा तैयार करता है ।

आरथिक विकास की पहली शरत ही यह कि इस में गतिशिलता होनी चाहिए ।

अरथात जैसे बाजार में बीकरी तथा खरीद होती है वैसे ही अरथ विवसथा में मोदरिक तथा पुजीगत लेन देन होने जरुरी है ।

और सिरफ नोजवान ही नए वयवसायों को शुरु करने का साहस कर सकता है इस प्रकार अरथविवसथा की सब से बडी मुशकल बेरोजगारी तथा गरीबी को हल कर सकता है कयोंकि हर एक नयां वयापार कम से कम 10 लोंगो को रोजगार देता है ।

पर यदि नोजवान अज्ञान के चक्र में ही फसा रहा तो वह न सिरफ अपनी दुरगति करे गा बलकि भारत की अरथ विवसथा को भी खतरे में डाल सकता है इस लिए यह अति आबशक है कि उसे भारत के अरथ शासतर को समझना चाहिए तथा कम से कम धन से भारत कि सभी अवशकताओ को पुरा करना चाहिए ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शिक्षण क्या है |

इंग्लिश में शिक्षण को टीचिंग कहते है । जब एक गुरु अपने विद्यार्थी को ज्ञान देता है तो इसे ही शिक्षण कहा जाता है । प्राचीन कल से ही ऋषि मुनि शिक्षण का कार्य कर रहे है ।

१. सबसे पहले वे विद्यार्थों को अपना चरित्र सुधरने की शिक्षा देते है तथा कहते है हे प्रिये विद्यार्थों कभी भी अपना चरित्र मत खत्म करो । एक बार धन खत्म हो जाये तो फिर आ जाये गा , एक भार स्वास्थ्य चला जाये तो फिर आ जाये गा पर चरित्र  का विनाश हो  जाने से तो दुर्गति हि दुर्गति होती है । इस को सभालने के लिए रूप , शब्द, गंध , स्पर्श आदि मथुनों से रोका जाता है ।

२. चरित्र की शिक्षा  देने के बाद गुरु विद्यार्थी को अक्षर ज्ञान देता है । उसे संस्कृत , हिंदी , गणित , इतिहास , भूगोल तथा विज्ञानं की शिक्षा दी जाती है

३. उपरोक्त शिक्षा देने के लिए कक्षा एक से दस होती है । दस वर्ष तक गुरु शिष्य को अपने पास रखता है । गुरु उसके हरेक कार्य पर नजर रखता है ।

शिक्षण से अद्यापक विद्यार्थी की आंखे खोल देता है । अगर मेरे अद्यापक ने मुझे हिंदी न सिखाई होती तो मै आज  शिक्षण क्या है न लिख सकता । इस लिए शिक्षण के पेशे को सबसे अच्छा माना गया है क…

लेखांकन के उदेश्य क्या है (Objectives of Accounting in Hindi)

लेखाकंन के बहुत सारे उदेश्य है जीने हम नमन शब्दों में लिख सकते है ।  इन उदेश्यों को जानकारी प्राप्त कर लेने से आप इस क्षेत्र में आगे जा सकते हो |

बी. काम की शिक्षा के लिए नोट्स

प्यारे बी. काम के विद्यार्थयों, 

हम आप को निशुल्क बी. काम की शिक्षा नोट्स के माद्यम से देना चाहते है |  हमने आप के लिए पिछले पांच वर्षों में इस शिक्षा को आसान करने के लिए पर्यास किया है | उमीद है के निम्न दिए गए नोट्स को आप पडेगें | धन्यवाद