सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

विनोद कुमार (शिक्षक)




प्रो. विनोद कुमार (30 मार्च 1980 का जन्म ) एक भारतीय शिक्षक है |  वे  लेखा शिक्षा और इस.वि.टूशन के संस्थापक है |  यह दोनों  संगठन मुफ्त ऑनलाइन शिक्षा प्रदान करते है |



प्रारंभिक जीवन और शिक्षा

प्रो विनोद कुमार का जन्म श्री मुक्तसर साहिब (पंजाब) में हुआ था. उन्होंने 2004 में  हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय से वाणिज्य में स्नातकोत्तर की डिग्री प्राप्त की है |  उन्होंने 2001 में पंजाबी यूनिवर्सिटी से बी.काम  की डिग्री प्राप्त की है | उन्होंने  एन.आई.आई.टी. से कंप्यूटर विज्ञान की भी डिग्री प्राप्त की है |

कैरियर 

उन्होंने एस.ओ.एस. चिल्ड्रेन विलेज ओफ इंडिया  में एक अंशकालिक शिक्षक के रूप में 2001 में अपने कैरियर की शुरुआत की |   कुछ समय के लिए, वह  अखबार विक्रेता, एक प्राइवेट स्कूल में  विज्ञान तकनीशियन, सामाजिक कार्यकर्ता, विक्रेता, प्राकृतिक चिकित्सक, शिक्षा स्वयंसेवी और प्रशिक्षु लेखा परीक्षा के रूप में काम किया | उन्होंने वाणिज्य शिक्षा के लिए स्वामी विवेकानंद इंस्टिट्यूट (ऑफलाइन)  को खोला जहां उन्होंने  10 साल उच्च कक्षाओं को पड़ाया |

जनवरी 2008 से, प्रो विनोद कुमार ने  लेखांकन शिक्षा नाम का  संगठन शुरू किया था जिसमें वे छात्रों, शिक्षकों, एकाउंटेंट और वित्त प्रबंधक को  लेखांकन, शिक्षा व वित् का ज्ञान ओन लाइन प्रदान करते है |

अन्य भाषाएँ

2. Tamil

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शिक्षण क्या है |

इंग्लिश में शिक्षण को टीचिंग कहते है । जब एक गुरु अपने विद्यार्थी को ज्ञान देता है तो इसे ही शिक्षण कहा जाता है । प्राचीन कल से ही ऋषि मुनि शिक्षण का कार्य कर रहे है ।

१. सबसे पहले वे विद्यार्थों को अपना चरित्र सुधरने की शिक्षा देते है तथा कहते है हे प्रिये विद्यार्थों कभी भी अपना चरित्र मत खत्म करो । एक बार धन खत्म हो जाये तो फिर आ जाये गा , एक भार स्वास्थ्य चला जाये तो फिर आ जाये गा पर चरित्र  का विनाश हो  जाने से तो दुर्गति हि दुर्गति होती है । इस को सभालने के लिए रूप , शब्द, गंध , स्पर्श आदि मथुनों से रोका जाता है ।

२. चरित्र की शिक्षा  देने के बाद गुरु विद्यार्थी को अक्षर ज्ञान देता है । उसे संस्कृत , हिंदी , गणित , इतिहास , भूगोल तथा विज्ञानं की शिक्षा दी जाती है

३. उपरोक्त शिक्षा देने के लिए कक्षा एक से दस होती है । दस वर्ष तक गुरु शिष्य को अपने पास रखता है । गुरु उसके हरेक कार्य पर नजर रखता है ।

शिक्षण से अद्यापक विद्यार्थी की आंखे खोल देता है । अगर मेरे अद्यापक ने मुझे हिंदी न सिखाई होती तो मै आज  शिक्षण क्या है न लिख सकता । इस लिए शिक्षण के पेशे को सबसे अच्छा माना गया है क…

लेखांकन के उदेश्य क्या है (Objectives of Accounting in Hindi)

लेखाकंन के बहुत सारे उदेश्य है जीने हम नमन शब्दों में लिख सकते है ।  इन उदेश्यों को जानकारी प्राप्त कर लेने से आप इस क्षेत्र में आगे जा सकते हो |

बी. काम की शिक्षा के लिए नोट्स

प्यारे बी. काम के विद्यार्थयों, 

हम आप को निशुल्क बी. काम की शिक्षा नोट्स के माद्यम से देना चाहते है |  हमने आप के लिए पिछले पांच वर्षों में इस शिक्षा को आसान करने के लिए पर्यास किया है | उमीद है के निम्न दिए गए नोट्स को आप पडेगें | धन्यवाद