सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

उत्पाद शुल्क की गणना कैसे करें


आज हमारे बीच एक बहुत पुराने विद्यार्थी आये हुए हैं ;जिनका नाम कमलदीप सिंह है । इन्होने बड़ी-बड़ी कम्नियों में काम किया है । वर्तमान में भी इनका काफी तजुर्बा रहा है । तो इनके पास ज्यादातर अकाउंटस डिपार्टमेंट रहा है । तो आजकल यह अपना ही बिजनेस कर रहे हैं । बड़ा ही सफल व्यापार कर रहे हैं ।



आज हम इनसे पूछेंगे कि जो एक्साईज ड्यूटी है, आपने एक्साइज ड्यूटी को अच्छी तरह जान लिया इसके इलावा आपने इसकी रिटर्न भी फाइल की, तो आप यह बताइए कि बिजनेस में एक्साईज ड्यूटी को कैसे कैलकुलेट करते हैं ।

जो भी प्रोडक्शन का काम करते हैं:-

१.  सबसे पहले कच्चा माल खरीदा जाता है,फिर उस का सामान तैयार किया जाता है ।

२. जब कच्चे माल से सामान तैयार हो जाता है तो  उपर एक्साईज ड्यूटी लगाई जाती है ।

३.  सामान की जो लागत आती है उस पर बारह प्रतिशत एक्साईज ड्यूटी लगाई जाती है ।

४. फिर उसके बाद दो प्रतिशत  एजुकेक्शन सेस लगता है ।

५. फिर उसके बाद एक प्रतिशत हायर एजुकेक्शन सेस लगता है ,जिस पर बेसिक एक्साईज ड्यूटी लगाई गई  हो ।

ऐसे हम एक्साईज का इनपुट निकल लेते हैं ।अब एक्साईज आउटपुट कैसे कैलकुलेट करेंगे

 १. आउटपुट तब निकालेंगे, जब तैयार सामान को बाजार में बेचा जायेगा ;उदाहरण के तोर पर
जैसे एक शैड बेचने वाले ने एक महीने में जितने शैड बेचे वो उसका सेल प्राईस आ जाता है ।

२. जितनी उसपे एक्साईज ड्यूटी लगी है वह उस डीलर से ही लेगा जिस ने शैड खरीदे हैं ,एक और उदहारण देता हूँ जैसे हमारे पास सौ रु. इनपुट है और असी रु.आउटपुट हैं,इसमें बीस रु. का फर्क है- तो जो बीस रु. फ़ालतू कर हमारा सरकार के पास चला गया है वो अगली बार जब हम कर का भुगतान करेंगे तब वह बीस रु. हमारे उस कर में जोड़ लीये जायेंगे । जैसे अगली बार आउटपुट एक्साईज ड्यूटी दो सौ रु.हो और इनपुट एक्साईज ड्यूटी सौ रु. हो तो जो सौ रु. हमें  देना है उसमें पिछले बीस रु.घटा दिए जायेंगे बाकी असी रु. देने पड़ेंगे ।

हमें हर महीने रिटर्न फाइल करनी होती है ,यदि हम रिटर्न फाइल नहीं करेंगे तो अनुचित कारण बताने पर हमको जुर्माना भी भरना पड़ सकता है ।

प्रश्न ;- आप हमें यह बताइए कि जो विद्यार्थी एक्साईज ड्यूटी के बारे में जानना चाहते हैं वह क्या करें ? इसको कैसे सीखें ?

उत्तर:- इसको सीखने के लिए पहले हमें मेनुअल सीखनी पड़ेगी, मेनुअल के बाद फिर एक्सपोर्ट ,
फिर उसके बाद रिटर्न सीखनी पड़ेगी ।

प्रश्न :- क्या एक्साईज ड्यूटी को सीखने के लिए कोई किताबें भी हैं ?जिससे अच्छी जानकारी मिलती हो ?

उत्तर:- हाँ इसकी जानकारी हमें  किताबों में भी मिल सकती है । इसकी नोटिफिकेशन बुक्स
बाजार में मिल सकती हैं ।

प्रश्न :- कौन सा सरकारी महकमा है जहाँ हमें करों का भुगतान करना पड़ता है ?

उत्तर :- इस  सरकारी महकमे का नाम कस्टम एंड एक्साईज ड्यूटी विभाग है ।

वीडियो टूटोरियल



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शिक्षण क्या है |

इंग्लिश में शिक्षण को टीचिंग कहते है । जब एक गुरु अपने विद्यार्थी को ज्ञान देता है तो इसे ही शिक्षण कहा जाता है । प्राचीन कल से ही ऋषि मुनि शिक्षण का कार्य कर रहे है ।

१. सबसे पहले वे विद्यार्थों को अपना चरित्र सुधरने की शिक्षा देते है तथा कहते है हे प्रिये विद्यार्थों कभी भी अपना चरित्र मत खत्म करो । एक बार धन खत्म हो जाये तो फिर आ जाये गा , एक भार स्वास्थ्य चला जाये तो फिर आ जाये गा पर चरित्र  का विनाश हो  जाने से तो दुर्गति हि दुर्गति होती है । इस को सभालने के लिए रूप , शब्द, गंध , स्पर्श आदि मथुनों से रोका जाता है ।

२. चरित्र की शिक्षा  देने के बाद गुरु विद्यार्थी को अक्षर ज्ञान देता है । उसे संस्कृत , हिंदी , गणित , इतिहास , भूगोल तथा विज्ञानं की शिक्षा दी जाती है

३. उपरोक्त शिक्षा देने के लिए कक्षा एक से दस होती है । दस वर्ष तक गुरु शिष्य को अपने पास रखता है । गुरु उसके हरेक कार्य पर नजर रखता है ।

शिक्षण से अद्यापक विद्यार्थी की आंखे खोल देता है । अगर मेरे अद्यापक ने मुझे हिंदी न सिखाई होती तो मै आज  शिक्षण क्या है न लिख सकता । इस लिए शिक्षण के पेशे को सबसे अच्छा माना गया है क…

लेखांकन के उदेश्य क्या है (Objectives of Accounting in Hindi)

लेखाकंन के बहुत सारे उदेश्य है जीने हम नमन शब्दों में लिख सकते है ।  इन उदेश्यों को जानकारी प्राप्त कर लेने से आप इस क्षेत्र में आगे जा सकते हो |

बी. काम की शिक्षा के लिए नोट्स

प्यारे बी. काम के विद्यार्थयों, 

हम आप को निशुल्क बी. काम की शिक्षा नोट्स के माद्यम से देना चाहते है |  हमने आप के लिए पिछले पांच वर्षों में इस शिक्षा को आसान करने के लिए पर्यास किया है | उमीद है के निम्न दिए गए नोट्स को आप पडेगें | धन्यवाद