सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

विदेशी मुद्रा बाजार की संरचना

यदि आप को foreign currency को खरीदना व् बेचना है तो आप को   विदेशी मुद्रा बाजार की संरचना का  पता होना चाहिए। विदेशी मुद्रा बाजार अरबों  डॉलर का  व्यापार  हर रोज किया जाता है । इस की सरचना इसके मुख्ये तीन खिलाडी बनाते है । ओओ  उनके बारे में जाने ।





1. वाणिज्यिक बैंक

वाणिज्यिक बैंक अपने customers के लिए या अपने लिए   विदेशी मुद्रा को खरीदते या बेचते हैं। इस तरह विदेशी मुद्रा बाजार  वाणिज्यिक बैंकों द्वारा कवर किया जाता है, जो इस की संरचना का प्रमुख हिस्सा है। वे अपने ग्राहकों को देने या लेने के लिए तैयार कर रहे हैं यह उसे rate पर foreign currency खरीदते या बेचते है जो उनका गाहक चाहता है । पर याद रखे कि  यह जरुरी नहीं है कि यह same rate पर खरीद या बेच सके । क्यूकी lots of other factors affect करते है ।

2. विदेशी मुद्रा दलाल

विदेशी मुद्रा बाजार की संरचना का दूसरा बड़ा हिस्सा विदेशी मुद्रा दलालों का  है। वे कमीशन एजेंट हैं। वे विक्रेताओं के पास विदेशी मुद्रा के खरीदारों को लाने के लिए मदद करते है। अन्य उद्योगों के दलालों की तरह,  उनके ग्राहकों की ओर से विदेशी मुद्रा खरीदते या बेचते है । बाजार का उनकों बहुत deeply पता होता है ।

3. विदेशी बाजार

जैसे सब्जी मंडी होती है वैसे ही विदेशी मुद्रा की खरीद व बेच का भी बाजार होता है  प्रमुख बाजारों लंदन विदेशी मुद्रा बाजार, न्यू यॉर्क  विदेशी मुद्रा बाजार, सिंगापुर विदेशी मुद्रा बाजार के नाम आ सकते  हैं। सभी अपने निर्धारित समय पर खुलते व् बंद होते  हैं। यदि हम इसे एक  श्रृंखला में रखेंगे तो, पूरे विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार  24 घंटे के लिए खुला  हुआ दिखाई देगा ।




उपरोक्त लेख को अपनी मातृभाषा में पड़े । 





विदेशी मुद्रा बाजार की संरचना को और detail में जानने के लिए पड़ने योग्य पुस्तक ( संदर्भ )




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बी. काम की शिक्षा के लिए नोट्स

प्यारे बी. काम के विद्यार्थयों, 

हम आप को निशुल्क बी. काम की शिक्षा नोट्स के माद्यम से देना चाहते है |  हमने आप के लिए पिछले पांच वर्षों में इस शिक्षा को आसान करने के लिए पर्यास किया है | उमीद है के निम्न दिए गए नोट्स को आप पडेगें | धन्यवाद 

शिक्षण क्या है |

इंग्लिश में शिक्षण को टीचिंग कहते है । जब एक गुरु अपने विद्यार्थी को ज्ञान देता है तो इसे ही शिक्षण कहा जाता है । प्राचीन कल से ही ऋषि मुनि शिक्षण का कार्य कर रहे है ।

१. सबसे पहले वे विद्यार्थों को अपना चरित्र सुधरने की शिक्षा देते है तथा कहते है हे प्रिये विद्यार्थों कभी भी अपना चरित्र मत खत्म करो । एक बार धन खत्म हो जाये तो फिर आ जाये गा , एक भार स्वास्थ्य चला जाये तो फिर आ जाये गा पर चरित्र  का विनाश हो  जाने से तो दुर्गति हि दुर्गति होती है । इस को सभालने के लिए रूप , शब्द, गंध , स्पर्श आदि मथुनों से रोका जाता है ।

२. चरित्र की शिक्षा  देने के बाद गुरु विद्यार्थी को अक्षर ज्ञान देता है । उसे संस्कृत , हिंदी , गणित , इतिहास , भूगोल तथा विज्ञानं की शिक्षा दी जाती है

३. उपरोक्त शिक्षा देने के लिए कक्षा एक से दस होती है । दस वर्ष तक गुरु शिष्य को अपने पास रखता है । गुरु उसके हरेक कार्य पर नजर रखता है ।

शिक्षण से अद्यापक विद्यार्थी की आंखे खोल देता है । अगर मेरे अद्यापक ने मुझे हिंदी न सिखाई होती तो मै आज  शिक्षण क्या है न लिख सकता । इस लिए शिक्षण के पेशे को सबसे अच्छा माना गया है क…

लागत लेखांकन नोट्स

लागत लेखांकन नोट्स में आपका स्वागत है| यह नोट्स  निन्म लिंक्स में दिए गए है | इनको एक एक करके आप देखे | मुझे आशा है कि इन  के माद्यम से आप लागत लेखांकन को जान लेंगे | कृपया अपने ब्राउज़र बटन का उपयोग करने के लिए वापस जाना है और इस विषय से संबंधित सभी व्याख्यान देखने के लिए आगे जाने के आगे का ब्राउज़र बटन का उपयोग करे ।