सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अध्ययन के लिए ऊर्जा को कैसे बढ़ाये

आज कल के स्कुल के विद्यार्थियों को ऊर्जा की कमी महसूस हो रही है जो प्राचीन काल में नहीं थी इस के पीछे बहुत से कारण  हो सकते है । हम उन करणों की गहराई में नही जायेगे । इस लेख का उदेश्य आप के अध्यन की ऊर्जा बढ़ाने के लिए आप को प्रेरित करना है ।



निचे दिए तरीके से आप अध्ययन की ऊर्जा प्राप्त कर सकते हो ।

1. स्वास्थ्यवधर्क भोजन खाना चाहिए 

यदि आप हर रोज healthy food खाने की आदत डालो तो आप की सेहत के साथ साथ आप में पढ़ाई  की ऊर्जा increase होगी । बहार का सब खान पान  बंद करना पड़ेगा ।  बाहर  आप को सिर्फ गंदी चीजे ही मिलेगी ।  उससे आप को कोई ऊर्जा नहीं मिलेगी । इस के इलावा आप को मास मच्छी व् अण्डों का भी त्याग करना पड़ेगा क्योकि हमारी आँते  इसे  हजम नही कर सकती ।  only eat vegetarian food ही आप को स्टार्ट करना पड़ेगा । शाकाहार में भी चीनी, चाय, ज्यादा तला भुना खट्टा  नही खाना । ज्यादा से ज्यादा फल खाए ।
कई विद्यार्थी मुझे कहते है के आलास बहुत अति है तो चाय तो पि ही सकते है । चाय ऊर्जा को कभी increase नही करती उल्टा यह एक प्रकार का नशा है । आलास को हटाने का सब से आसान तरीका मुह पर जोर जोर से पानी के छीटे  मरने का है । इससे आलास भाग कर नई शक्ति अति है ।


2. हर रोज व्यायाम करना चाहिए 

सबेह जल्दी उठें। अपने छोटे से घर में जिम बनाये । यदि आप barbell or gym machine  नहीं खरीद सकते हैं। तो कोई बात नहीं। आप व्यायाम करने के लिए ईटें  व् पथर भी उठा सकते है । उसके बाद 100 push up  लगाएं ।  इससे आप में एक नही ऊर्जा का संचार होगा क्योकि इससे आप की सब गन्दी अड़ते छूट जाएगी । तथा यह ऊर्जा विद्या ग्रहण करने में काम आएगी ।  पर याद रखे रोज आप को व्यायाम करना है ।



3. 8 घंटे की नींद जरूर लेनी चाहिए 

24 घंटे में से, आप को 8 घंटे की नींद करनी चाहिए। आज  आप अपना कीमती समय WhatsApp, फेसबुक और अन्य सामाजिक नेटवर्क पर waste करे रहे हो। आप कहते हो के आप इससे technology के साथ जुड़ गए हो । पर आप को पता है कि यही वेबसाइट आप को रात  को न सोने की बीमारी पैदा करती है और आप इसके आदि हो जाते हो । जिस से आप की ऊर्जा खत्म हो जाती है । पढ़ाई  में आप का मन नही लगता । तो प्रिये विद्यार्थी अब भी समय है । आज ही से संकल्प करके रात्रि ९ बजे सो जाओं और सुबह ४ बजे उठ जाओ । फिर आप की ऊर्जा ५ गुना बड़ जाएगी ।


4. योग और ध्यान हर रोज लगाना चाहिए 

योग और ध्यान में बड़ी शक्ति है। जो इसे  दैनिक करते हैं। योग और ध्यान के माध्यम से, हम भगवान तक पहुँचने के लिए प्रयास करते है । भगवान के नाम से हमे अध्ययन करने के लिए ऊर्जा को प्राप्त होती  हैं, जो दुनिया में एक महान शक्ति है। तुम पता है भगवान के नाम से भी अधिक शक्तिशाली एक चीज है, हाँ प्रिय। यह है हमारी जीभ, इसकी मदद के बिना, हम भगवान के नाम नही ले सकते हैं, क्योंकि हमारी जीभ अधिक शक्तिशाली है। ठीक है, आप हमारी जीभ की तुलना में भी एक और चीज अधिक शक्तिशाली है, क्या तुम्हे  पता नहीं है। हाँ प्रिय। हमारा मन जीभ की तुलना में अधिक शक्तिशाली है। जीभ के बिना, हम अपने मन में कुछ भी बोल सकते  है। मन से  एक और अधिक  शक्तिशाली चीज है वह है  हमारे विचार है।हमारे विचारों की तुलना में भोजन अधिक शक्तिशाली है। जल भोजन की तुलना में अधिक शक्तिशाली है। यह पृथ्वी पर वर्षा को लाने में मदद करता है,। आग पानी की तुलना में अधिक शक्तिशाली है। आसमान  आग की तुलना में अधिक शक्तिशाली है। हमारी स्मृति आकाश से  अधिक शक्तिशाली है क्योकि इससे हमे ज्ञान होता है ।  हमारी आशा  स्मृति की तुलना में अधिक शक्तिशाली है।  आशाओं की मदद से, हम अच्छी याददाश्त को प्राप्त कर सकते हैं। हमारी आत्मा जीवन की सारी उम्मीदें की तुलना में अधिक शक्तिशाली है। शरीर में कोई आत्मा नहीं है, तो आप उस का कोई मूल्य प्राप्त  नहीं कर सकते  है। हिन्दू और सिख आग को  मृत शरीर दे देते है और मुस्लिम और ईसाई पृथ्वी को   मृत शरीर दे देते है । हमारी आत्मा को बनाया है भगवान ने  । तो, भगवान आत्मा की तुलना में अधिक शक्तिशाली है और हम उसका नाम बोल कर भगवान को याद कर सकते हैं। तो, यह चक्र भगवान के नाम पर खत्म हो जाएगा। तो, दैनिक योग और ध्यान के लिए अपने समय समर्पित करे इससे आप की अध्ययन करने की ऊर्जा बढ़ेगी ।

5. प्राकृतिक वातावरण में अध्ययन करना चाहिए 

एक इंसान के रूप में, हम पर्यावरण से प्रभावित होते  हैं। अगर आप एक   छात्र  के रूप में अध्ययन करना है तो nature में study करे ।


6. अपने विषय की समस्याओं को सुलझाने के लिए अध्यापक से मदद लेनी चाहिए 

 छात्र समस्या को हल करने में यदि असमर्थ है। तो वह नराश  हो जाता है । इससे वह आलसी  भी हो जाता है ।  इस लिए इसके माता पिता को tutor की मदद लेनी चाहिए जो उसकी सभी समस्याओं का सही उत्तर दे सके

अपनी खुद की भाषा में  ऊपर लिखे लेख को पढ़ें




संबंधित संसाधन





संदर्भ ( Reference from VCDs and Books)



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शिक्षण क्या है |

इंग्लिश में शिक्षण को टीचिंग कहते है । जब एक गुरु अपने विद्यार्थी को ज्ञान देता है तो इसे ही शिक्षण कहा जाता है । प्राचीन कल से ही ऋषि मुनि शिक्षण का कार्य कर रहे है ।

१. सबसे पहले वे विद्यार्थों को अपना चरित्र सुधरने की शिक्षा देते है तथा कहते है हे प्रिये विद्यार्थों कभी भी अपना चरित्र मत खत्म करो । एक बार धन खत्म हो जाये तो फिर आ जाये गा , एक भार स्वास्थ्य चला जाये तो फिर आ जाये गा पर चरित्र  का विनाश हो  जाने से तो दुर्गति हि दुर्गति होती है । इस को सभालने के लिए रूप , शब्द, गंध , स्पर्श आदि मथुनों से रोका जाता है ।

२. चरित्र की शिक्षा  देने के बाद गुरु विद्यार्थी को अक्षर ज्ञान देता है । उसे संस्कृत , हिंदी , गणित , इतिहास , भूगोल तथा विज्ञानं की शिक्षा दी जाती है

३. उपरोक्त शिक्षा देने के लिए कक्षा एक से दस होती है । दस वर्ष तक गुरु शिष्य को अपने पास रखता है । गुरु उसके हरेक कार्य पर नजर रखता है ।

शिक्षण से अद्यापक विद्यार्थी की आंखे खोल देता है । अगर मेरे अद्यापक ने मुझे हिंदी न सिखाई होती तो मै आज  शिक्षण क्या है न लिख सकता । इस लिए शिक्षण के पेशे को सबसे अच्छा माना गया है क…

लेखांकन के उदेश्य क्या है (Objectives of Accounting in Hindi)

लेखाकंन के बहुत सारे उदेश्य है जीने हम नमन शब्दों में लिख सकते है ।  इन उदेश्यों को जानकारी प्राप्त कर लेने से आप इस क्षेत्र में आगे जा सकते हो |

बी. काम की शिक्षा के लिए नोट्स

प्यारे बी. काम के विद्यार्थयों, 

हम आप को निशुल्क बी. काम की शिक्षा नोट्स के माद्यम से देना चाहते है |  हमने आप के लिए पिछले पांच वर्षों में इस शिक्षा को आसान करने के लिए पर्यास किया है | उमीद है के निम्न दिए गए नोट्स को आप पडेगें | धन्यवाद