सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

तत्व ज्ञान

post-feature-image



हाल ही में, मैंने  तत्व ज्ञान  से संबंधित आनंद स्वामी की पुस्तक को पड़ना शुरू किया है । इस पुस्तक में मैंने तत्व  ज्ञान की सही परिभाषा पायी है । इस पुस्तक के अनुसार,  तत्व  ज्ञान ही हमें आत्मा व् परमात्मा का सही ज्ञान करा सकता है ।

In this world, हम एक महान काम करने के लिए पैदा हुए है पर हम यह माता पिता, भाई बहन, रिश्ते नाते, बीवी बच्चों की माया में फस जाते है । हम उपनि जिंदगी का असली उदेश्ये ही भूल जाते है । यह सभी कुछ हमारे मन की वजह से होता है ।

1. मन हमारा दुश्मन है और मन हमारा  दोस्त है

मन हमारा दुश्मन है और यही हमारा  दोस्त है। यदि हम अपने दुवारा अपने मन को control नहीं करते तो  अनियंत्रित मन हमारी उन्ती के विनाश का कारण  बनता है ।यदि मन को control कर लिया जाये तो यह हमे अच्छे अच्छे कार्य को करने के लिए प्रेरित करता है ।

2. मन पर नियंत्रण  कैसे करे 

हम खाने और सोने के कड़े समय तालिका बनाने के लिए शुरू करते हैं, तो हम कुछ कर सकते हैं। यह केवल शाकाहारी खाने के लिए भी आवश्यक है। हम कीटनाशकों के बिना अधिक फल और हरी सब्जियां खाने के लिए प्रयास करें। हम समय पर सोने के लिए किया है। हम अपनी इच्छाओं को नियंत्रित करने के लिए है। अच्छा खाने से, अच्छी नींद से है और हमारी इच्छाओं को नियंत्रित करने से, हम अपने मन को नियंत्रित करने के लिए सफलता मिलेगी।

 3. मन को नियंत्रित करने का क्या फायदा है


  • मन को नियंत्रित कर के आप भगवान को प्राप्त कर सकते हो । इस के लिए समाधि में जाना जरूरी है । 
  • मन को नयंत्रित करके आप अपनी एकाग्रता को बड़ा सकते हो । इस concentration से आप जान जाएंगे कि हमारे इस जीवन का उदेश्ये भोग करना नही अपितु योग की दुवारा परमात्मा को प्राप्त करना है । हम न तो मन है न ही इन्द्रिया  है हम  हम सर्वोच्च शक्ति भगवान का हिस्सा है जो आत्मा हैं।


4. शब्दों  में भगवान की व्याख्या नही की जा सकती 

मन की एकाग्रता और नियंत्रण के माध्यम से शरीर के अंदर जब आप भगवान को पा  लेंगे तो भी आप उस की व्याख्या नहीं कर सके । ,


 5. तत्व-ज्ञान का ज्ञान प्राप्त करने के बाद क्या होगा 

तत्व ज्ञान प्राप्त करने के बाद हमे दुःख और सुख की स्थिति में सम बनना सिखाएगी । हम दुनिया के दुखों को कम करने में अपना सहयोग दे सकते है ।

अपनी खुद की भाषा में ऊपर  लिखा लेख पढ़ें

इस पुस्तक के संदर्भ



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शिक्षण क्या है |

इंग्लिश में शिक्षण को टीचिंग कहते है । जब एक गुरु अपने विद्यार्थी को ज्ञान देता है तो इसे ही शिक्षण कहा जाता है । प्राचीन कल से ही ऋषि मुनि शिक्षण का कार्य कर रहे है ।

१. सबसे पहले वे विद्यार्थों को अपना चरित्र सुधरने की शिक्षा देते है तथा कहते है हे प्रिये विद्यार्थों कभी भी अपना चरित्र मत खत्म करो । एक बार धन खत्म हो जाये तो फिर आ जाये गा , एक भार स्वास्थ्य चला जाये तो फिर आ जाये गा पर चरित्र  का विनाश हो  जाने से तो दुर्गति हि दुर्गति होती है । इस को सभालने के लिए रूप , शब्द, गंध , स्पर्श आदि मथुनों से रोका जाता है ।

२. चरित्र की शिक्षा  देने के बाद गुरु विद्यार्थी को अक्षर ज्ञान देता है । उसे संस्कृत , हिंदी , गणित , इतिहास , भूगोल तथा विज्ञानं की शिक्षा दी जाती है

३. उपरोक्त शिक्षा देने के लिए कक्षा एक से दस होती है । दस वर्ष तक गुरु शिष्य को अपने पास रखता है । गुरु उसके हरेक कार्य पर नजर रखता है ।

शिक्षण से अद्यापक विद्यार्थी की आंखे खोल देता है । अगर मेरे अद्यापक ने मुझे हिंदी न सिखाई होती तो मै आज  शिक्षण क्या है न लिख सकता । इस लिए शिक्षण के पेशे को सबसे अच्छा माना गया है क…

बी. काम की शिक्षा के लिए नोट्स

प्यारे बी. काम के विद्यार्थयों, 

हम आप को निशुल्क बी. काम की शिक्षा नोट्स के माद्यम से देना चाहते है |  हमने आप के लिए पिछले पांच वर्षों में इस शिक्षा को आसान करने के लिए पर्यास किया है | उमीद है के निम्न दिए गए नोट्स को आप पडेगें | धन्यवाद 

लेखांकन के उदेश्य क्या है (Objectives of Accounting in Hindi)

लेखाकंन के बहुत सारे उदेश्य है जीने हम नमन शब्दों में लिख सकते है ।  इन उदेश्यों को जानकारी प्राप्त कर लेने से आप इस क्षेत्र में आगे जा सकते हो |