सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

प्रस्ताव को कैसे रद्द करे

post-feature-image

भारतीय संविदा अधिनियम 1872 की धारा 6 के अनुसार, आप निम्न तरीकों के साथ अपने प्रस्ताव को वापस ले सकते हैं।

1. सूचना देकर प्रस्ताव  का रद्दीकरण

यदि प्रस्तावक अपने दिए प्रस्ताव को रद करना चाहता है तो उसे इसकी सुचना प्रस्ताव को स्वीकार करने वाले को देनी जरुरी है । यदि प्रस्ताव को रद करने के सुचना ही इसे स्वीकार करने वाले को न दी जाये तो इस प्रस्ताव का रद होना नही माना जायेगा ।  उद्धरण के लिए यदि यूटुब आप का अकॉउंट ससपेंड कर देता है तो वह इस की notification आप को ईमेल दुवारा बेजता  है ।  Notification एक तरह से आप को सुचना देकर प्रस्ताव को रद करना होता है ।  इस तरह से युटुब ने अपने दिए offer को खत्म कर दिया है ।



2.  इसे समय पर पूरा नहीं करने के प्रस्ताव का रद्दीकरण

यदि प्रस्ताव देने के बाद इस को स्वीकार करने वाला स्वीकार नही करता य इस के अनुसार कार्य को पूरा नही करता तो इसे प्रस्ताव का रद होना मन जाएगा ।

3. अपनी शर्तों को पूरा नहीं द्वारा की पेशकश की  रद्दीकरण

यदि प्रस्ताव के साथ को शर्त भी है यदि स्वीकार करने वाला उसे स्वीकार ही नही करता तो भी प्रस्ताव रद हो जाता है ।

 4. कारण मौत या प्रस्ताव दाता के पागल की पेशकश  रद्दीकरण

यदि प्रस्ताव करने वाला पागल हो जाये या उस की मृत्यु हो जाये तो भी प्रस्ताव रद्द  हो जाता है ।

 5. पुनः ऑफर ने प्रस्ताव की रद्दीकरण

यदि प्रस्ताव करने वाला कोई नई शर्त इस में डाल  देता है तो भी पिछला प्रस्ताव खत्म हो जाता है । मान लीजिये के आप साबन की टिकिया बेच रहे हो ।  आप ने इस का रेट बड़ा दिया है तो पिछले रेट का प्रस्ताव खत्म हो जाएगा ।

6. प्रस्ताव की उचित विधि के साथ की पेशकश नहीं द्वारा की पेशकश की  रद्दीकरण

प्रस्ताव को उचित तरीके से नहीं दिया जाता है, तो इसे रद्द कर दिया जाएगा। उदाहरण के लिए, खरीदार विक्रेता से लिखित कॉन्ट्रैक्ट चाहता है पर विक्रेता बिना लिखित के ही बेचना चाहता है तो विक्रेता का यह प्रस्ताव आपने आप ही खत्म हो जायेगा ।

इस लेख को अपनी भाषा में पड़े



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शिक्षण क्या है |

इंग्लिश में शिक्षण को टीचिंग कहते है । जब एक गुरु अपने विद्यार्थी को ज्ञान देता है तो इसे ही शिक्षण कहा जाता है । प्राचीन कल से ही ऋषि मुनि शिक्षण का कार्य कर रहे है ।

१. सबसे पहले वे विद्यार्थों को अपना चरित्र सुधरने की शिक्षा देते है तथा कहते है हे प्रिये विद्यार्थों कभी भी अपना चरित्र मत खत्म करो । एक बार धन खत्म हो जाये तो फिर आ जाये गा , एक भार स्वास्थ्य चला जाये तो फिर आ जाये गा पर चरित्र  का विनाश हो  जाने से तो दुर्गति हि दुर्गति होती है । इस को सभालने के लिए रूप , शब्द, गंध , स्पर्श आदि मथुनों से रोका जाता है ।

२. चरित्र की शिक्षा  देने के बाद गुरु विद्यार्थी को अक्षर ज्ञान देता है । उसे संस्कृत , हिंदी , गणित , इतिहास , भूगोल तथा विज्ञानं की शिक्षा दी जाती है

३. उपरोक्त शिक्षा देने के लिए कक्षा एक से दस होती है । दस वर्ष तक गुरु शिष्य को अपने पास रखता है । गुरु उसके हरेक कार्य पर नजर रखता है ।

शिक्षण से अद्यापक विद्यार्थी की आंखे खोल देता है । अगर मेरे अद्यापक ने मुझे हिंदी न सिखाई होती तो मै आज  शिक्षण क्या है न लिख सकता । इस लिए शिक्षण के पेशे को सबसे अच्छा माना गया है क…

लेखांकन के उदेश्य क्या है (Objectives of Accounting in Hindi)

लेखाकंन के बहुत सारे उदेश्य है जीने हम नमन शब्दों में लिख सकते है ।  इन उदेश्यों को जानकारी प्राप्त कर लेने से आप इस क्षेत्र में आगे जा सकते हो |

बी. काम की शिक्षा के लिए नोट्स

प्यारे बी. काम के विद्यार्थयों, 

हम आप को निशुल्क बी. काम की शिक्षा नोट्स के माद्यम से देना चाहते है |  हमने आप के लिए पिछले पांच वर्षों में इस शिक्षा को आसान करने के लिए पर्यास किया है | उमीद है के निम्न दिए गए नोट्स को आप पडेगें | धन्यवाद